प्रशासनिक

TV डिबेट में ‘Hate Speech’ पर सुप्रीम कोर्ट ने लगाई लताड़, ऐंकर को लेकर कही ये बात…

Listen to this article

हेट स्पीच के मुद्दे ने देखते ही देखते तूल पकड़ लिया है। इस मामले में मीडिया में हेट स्पीच को लेकर सुप्रीम कोर्ट ने कड़ा रुख अपनाते हुए टीवी चैनलों को लताड़ लगाई है। शीर्ष न्यायालय ने कहा कि टीवी चैनल पर डिबेट के दौरान एक ऐंकर की बड़ी जिम्मेदारी होती है और उसे हेट स्पीच रोकनी चाहिए। सरकार पर भी सवाल उठाते हुए सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि इस मामले में आखिर सरकार मूक दर्शक क्यों बनी रहती है। पिछले साल फाइल की गई याचिकाओं पर सुनवाई करते हुए जस्टिस केएम जोसेफ ने कहा, मुख्यधारा की मीडिया और सोशल मीडिया पर दिए जाने वाले भाषणों पर कोई नियंत्रण नहीं है। ऐसे में ऐंकर की जिम्मेदारी है कि वह हेट स्पीच को रोके।

नवंबर में होगी अगली सुनवाई:

जानकारी के मुताबिक इस मामले की अगली सुनवाई 23 नवंबर को होगी। कोर्ट ने हेट स्पीच रोकने के लिए लॉ कमीशन की सिफारिशों पर केंद्र सरकार से जवाब मांगा है। बताते चलें कि साल 2017 में लॉ कमीशन ने सुप्रीम कोर्ट में हेट स्पीच को रोकने को लेकर रिपोर्ट दी थी। इसमें कहा गया था, ‘भारत के किसी भी कानून में हेट स्पीच को पारिभाषित नहीं किया गया है। हालांकि अभिव्यक्ति कि स्वतंत्रता से इतर कुछ तरह के भाषणों पर प्रतिबंध लगाया गया है। आईपीसी की धारा 153सी, 505ए में भी भड़काऊ भाषण के खिलाफ रोक लगाने की बात है।

Show More

Related Articles

Back to top button
उत्तराखंड
राज्य
वीडियो